झूठों की बस्‍ती में दम घुटता है …

सच कहने की हिम्‍मत करता रोज कोई मरता है, सच तो यह है झूठों की बस्‍ती में दम घुटता है।।1।।   चेहरे पर आवरण लिए दिल से हैं काले लोग यहां, काले हैं धंधे  इन सबके, काले इनके भोग यहां। इनके हाथों में सत्‍ता की चाबी क्‍यों रखता है ? सच कहने की हिम्‍मत करता…

नव चरित्र गढ़ना होगा …

सृजन सारथियों अब हम सबको ही आगे बढ़ना होगा। कलम चलाकर इस युग में, फिर नवचरित्र गढ़ना होगा।   सोया है देवत्‍व धरा का, हमको उसे जगाना है, हावी है असुरत्‍व मनुज पर, उसको हमें मिटाना है। नवयुग के निर्माण हेतु, अब स्‍व चिंतन करना होगा, कलम चलाकर इस युग में, फिर नवचरित्र गढ़ना होगा।।…